2021 के सबसे रईस इंसान बने गौतम अडानी !

अडानी समूह के प्रमुख गौतम अडानी ने इस साल दुनिया के किसी भी दूसरे कारोबारी से ज्यादा दौलत कमाई है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स के अनुसार अडानी की संपत्ति 16.2 अरब बिलियन डॉलर से बड़ी उनकी कुल संपत्ति अब बढ़कर 50 बिलियन डॉलर तक पहुंच चुकी है।

साल भर में संपत्ति में बढ़ोतरी के मामले में अडानी ने मुकेश अंबानी बेजोड़ और एलन मस्क को भी पीछे छोड़ दिया है। मुकेश अंबानी की संपत्ति साल सिर्फ आठ दशमलव एक अरब बिलियन डॉलर बढ़ी जो अडानी की तुलना में आधी है। कुल संपत्ति के मामले में अडानी अब भी मुकेश अंबानी के पीछे हैं। तो देखिए किस की संपत्ति में कितना इजाफा हुआ। गौतम अडानी की 16.2 अरब बिलियन डॉलर से बढ़कर 50 अरब बिलियन डॉलर है।

गूगल के को फाउंडर लैरी पेज की संपत्ति 16.3 अरब बिलियन डॉलर से बढ़कर 97 अरब बिलियन डॉलर सब्जी ब्रैंड की संपत्ति 13.8 अरब बिलियन डॉलर से बढ़कर 94 अरब बिलियन डॉलर। उद्योगपति वॉरेन बफेट की 12 दशमलव एक अरब बिलियन डॉलर से बढ़कर सौ अरब बिलियन डॉलर हो गई है। अडानी की संपत्ति बढ़ने का कारण शेयर में उछाल है। इसी उछाल की वजह से उन्होंने एशिया के सबसे धनी शख्स मुकेश अंबानी को इस साल संपत्ति में बढ़ोतरी के मामले में मात दे दी है।

richest person Gautam Adani

बता दें कि अडानी ने अपने बलबूते कमाई की और वे किसी कारोबारी परिवार के वारिस नहीं हैं। इस साल अडानी ने तेजी से पोर्ट्स एयरपोर्ट डेटा सेंटर कोयले की खदानों तक अपना बिजनेस फैलाया है। इससे उनकी दौलत को तेजी मिली है। पिछले ही महीने अडानी इंटरप्राइज लिमिटेड ने भारत में सौ गीगा वॉट की क्षमता वाले डेटा सेंटर बनाने को लेकर डील की है। गौतम अडानी का जन्म गुजरात के अहमदाबाद में 24 जून उन्नीस सौ बासठ को हुआ था।

अडानी के छह भाई बहन थे। अडानी का परिवार बेहद संपन्न नहीं था इसलिए वो उस दौरान अहमदाबाद के पोले इलाके में शेठ चॉल में रहते थे। अपनी पढ़ाई बीच में अधूरी छोड़कर अडानी एक दिन कुछ पैसे लेकर मुंबई आ गए। उस वक्त वो महज 18 साल के थे। वो मुंबई जाकर वो हिंदुजा ब्रदर्स में महज 300 रुपए सैलरी पर काम करने लगे। 20 साल की उम्र में ही हीरे का ब्रोकरेज आउटफिट खोल लिया। इसके बाद प्लास्टिक कारोबार एक्सपोर्ट पावर व ऐग्रिकल्चर समेत कई कारोबारों में हाथ डाले तो हर जगह सफलता नसीब हुई।

2014 में मोदी सरकार आने के बाद विवादों से घिरे रहे अडानी किसान आंदोलन के दौरान भी अडानी पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि न एक रशीद क़ानून अडानी अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए लाए गए। हालांकि अडानी ग्रुप ने सफाई में कहा कि वो ना तो फार्मिंग का कारोबार करते हैं और ना ही उस क्षेत्र में।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top